पत्रकारिता विश्वविद्यालय में संविधान दिवस पर “भारत: लोकतंत्र की जननी” विषय पर व्याख्यान आयोजित संविधान लोकतंत्र की आत्मा- प्रो. शर्मा

Share this post

रायपुर।। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में संविधान दिवस के अवसर पर बोलते हुए कुलपति प्रो. बल्देव भाई शर्मा ने कहा कि भारत में संविधान लोकतंत्र की आत्मा है। संविधान लोकतंत्र का आधार है। संविधान में भारतीयता का सम्पूर्ण दृश्य है। उन्होंने कहा कि भारत भूमि पर लोकतंत्र की संकल्पना सदियों से है। भारतीय ग्रंथ इस बात के प्रमाण हैं कि उनमें जनता को अपना राजा चुनने की स्वतंत्रता थी। भारत विश्व का सबसे पुराना लोकतांत्रिक देश है। भारतीय संविधान मानवता और लोक कल्याण पर बल देता है। उन्होंने कहा कि प्रजा की सेवा के लिए लोक की आराधना सर्वोपरि है। संविधान जीवन निर्माण के संकल्पों में अच्छा नागरिक बनने की दृष्टि देता है। उन्होंने कहा कि संविधान दिवस के अवसर पर हम सभी संकल्पित होकर देश को अग्रणी राष्ट्र बनाने के लिए हर क्षेत्र में समर्पित रहें। इस अवसर पर भारत लोकतंत्र की जननी विषय पर व्याख्यान, संविधान की प्रस्तावना का पाठ एवं संविधान दिवस के अवसर पर अपने कार्यालयों में सत्य निष्ठा के साथ कार्य करने की शपथ ली गई।

इस अवसर पर कुलसचिव डॉ. आनंद शंकर बहादुर ने कहा कि संविधान दिवस एक राष्ट्र जीवन का सबसे महत्वपूर्ण दिवस है, जिसकी वजह से राष्ट्र कि संकल्पना की नींव मजबूत होती है। देश के सभी नागरिकों को अपने संविधान में निहित उद्देश्यों को आत्मसात कर लेना चाहिए। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया विभागाध्यक्ष डॉ. नरेन्द्र त्रिपाठी ने कहा कि संविधान की मूल भावना राष्ट्र निर्माण के साथ लोक कल्याण है। इस अवसर पर प्राध्यापक पंकज नयन पांडेय, शैलेंद्र खंडेलवाल, डॉ. आशुतोष मंडावी, डॉ. नृपेंद्र शर्मा, वैशाली गोलाप, चंद्रशेखर शिवहरे सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Ved Sahu
Author: Ved Sahu

Facebook
Twitter
LinkedIn

Related Posts