धुरवासिन जीआरएस पंचायत से रहता है नदारत शासन की योजनाओ को लगा रहा पलीता

Share this post

धुरवासिन जीआरएस पंचायत से रहता है नदारत शासन की योजनाओ को लगा रहा पलीता

अनूपपुर /जिले के जनपद पंचायत अनूपपुर बदरा अंतर्गत ग्राम पंचायत धुरवशिन का मामला जहां ग्राम रोजगार सहायक कई कई दिनों से पंचायत से नदारत रहता हैं महत्वपूर्ण योजनाओं का लाभ लेने के लिए पात्र हितग्राहियों को वंचित होना पड़ रहा है रोजगार सहायक की अनुपस्थिति के कारण ग्रामीणों को कागजी काम के लिए उनका इंतजार करना पड़ता है इसी तरह कई समस्याओं को लेकर ग्रामीण रोजाना पंचायत भवन का चक्कर काट कर परेशान होते जा रहे हैं ।लेकिन रोजगार सहायक का कोई पता नहीं रहता है इस तरह के स्वेक्षाचारी रोजगार सहायक की वजह से शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं को लागू होने में मुसीबत का सामना ग्रामीणों को करना पड़ रहा है और जिसका सीधे विरोध शासन को झेलना पड़ रहा है मध्य प्रदेश शासन हमेशा से ही अपनी जनकल्याणकारी योजनाओं को धरातल में उतारने का काम किया है परंतु ऐसे निकम्मे कर्मचारियों की वजह से जनता को लाभ मिल पाना मुनासिब नहीं हो रहा है तो वही जनता का रोष लोकप्रिय सरकार के ऊपर व्याप्त हो रहा है और ऊपर से जिम्मेदार जनप्रतिनिधि इनके ऊपर कार्यवाही करने का काम नहीं कर रहे हैं ध्यान नहीं दे रहे हैं और साथ ही उनके वरिष्ठ आला अधिकारियों के द्वारा गोल-गोल जवाब देकर के चलता कर दिया जाता है ज्ञात होकी मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान सरकार के द्वारा संपन्न हुए चुनाव के पूर्व रोजगार सहायकों की माली हालत को देखते हुए कई सारी सौगातें दी और साथ ही इनका मानदेय भी दुगना कर दिया गया ताकि घर परिवार के भरण पोषण में कोई परेशानी ना हो और पंचायत में समय पर उपस्थित होकर ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ दे सके लेकिन ऐसा यथार्थ में देखने को नहीं मिल रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत धुरवाशिन में रोजगार सहायक की भर्ती नहीं हो पाने के कारण लगभग 6 माह पूर्व रामानुज त्रिपाठी नाम के व्यक्ति को जो डूमरकछार क्षेत्र का निवासी बताया जा रहा है जिसे यहां का रोजगार सहायक बनाया गया है जो स्थानीय क्षेत्र के न होने के कारण कई कई दिनों गायब रहते हैं जिससे वास्तव में ग्रामीण योजनाओं के लाभ से वंचित रह जाते हैं और प्रशासन अपना कोरमा पूर्ति करके पल्ला झाड़ लेते हैं फिर चाहे पंचायत में कुछ भी होता रहे जबकि करीब के पंचायत के ही जीआरएस को संबंधित पंचायत का प्रभार देने का प्रावधान है।

इनका कहना है:-

जब हमने रोजगार सहायक की अनुपस्थिति के संबंध में जनपद सीईओ से बात करनी चाहे तो उन्होंने कहा कि मैं अभी मीटिंग में हूं दिखवा लेती हूं।

श्रीमती उषा किरण गुप्ता सीईओ जनपद पंचायत अनूपपुर

Bhupendra Patel
Author: Bhupendra Patel

Facebook
Twitter
LinkedIn

Related Posts

error: Content is protected !!