नारी शक्ति संगम कार्यक्रम भव्यता के साथ कोतमा कृषि उपज मंडी में हुआ संपन्न 

Share this post

नारी शक्ति संगम कार्यक्रम भव्यता के साथ कोतमा कृषि उपज मंडी में हुआ संपन्न 

समाज में महिलाओं की भूमिका पर मंथन,मातृ शक्तियों ने बढ़ चढ़ कर लिया हिस्सा 

अनूपपुर / जिले का नारी शक्ति संगम कार्यक्रम 25 फरवरी 2024 को कोतमा के कृषि उपज मंडी में भव्यता के साथ संपन्न हुआ कार्यक्रम में लगभग 5000 मातृ शक्तियां शामिल हुईं अनूपपुर सेवा भारती महाकौशल प्रांत एवं महिला समन्वय समिति के संयुक्त तत्वाधान में नारी शक्ति संगम कार्यक्रम संपन्न हुआ। जिला प्रचार प्रमुख आदर्श दुबे ने जानकारी देते हुए बताया की उक्त कार्यक्रम तीन सत्र में संपन्न हुआ,कार्यक्रम की शुरुआत मां भारती एवम वीरांगनाओं की प्रतिमा के सामने दीप प्रज्ज्वलित किया गया स्वागत गीत , मध्यप्रदेश गायन हुआ मातृ शक्ति द्वारा नृत्य प्रस्तुत किया गया साथ ही किशोरी बालिकाओं द्वारा आत्म रक्षा कार्यक्रम एवम स्काउट गाइड की बालिकाओं द्वारा पिरामिड आर्ट बनाया गया । 

कार्यक्रम के प्रमुख वक्ता के रूप में मेघा पवार (प्रांत संयोजिका महिला समन्वय) सदस्य बाल अधिकार संरक्षक आयोग (म.प्र.) पार्वती राठौर (जिला पंचायत उपाध्यक्ष) गणेशिया सिंह एनआरएलएम लेखापाल मंचासिन रही मुख्य वक्ता के रूप में डॉ अंजली प्रजापति प्राचार्य भाद रहीं। जिन्होंने उद्बोधन में कहा नारी परिवार तथा समाज की वास्तविक वास्तुकार है, नारी का अस्तित्व ही सुंदर जीवन का आधार है, उसका स्वयं से उसके विराट रूप का साक्षात्कार कराने की आवश्यकता है।द्वितीय सत्र में प्रतिमा पटेल एसपी उमरिया (पीटीएस),अर्चना मालवीय(संजय गांधी थर्मल पावर प्लांट अध्यक्ष)अर्चना दुबे (संजय गांधी थर्मल पॉवर प्लांट सचिव) मंचा सीन रही जिनका स्वागत किया गया तृतीय सत्र में मोहनी वर्मा (सामाजिक कार्यकर्ता), प्रभा मिश्रा , डा अंजली सिंह (प्राचार्य भाद )श्रीमती उर्मिला गर्ग, श्रीमती अर्चना दिलीप जायसवाल रही आप सभी का स्वागत किया गया,इस अवसर पर कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा हुई जिसमे विभिन्न स्तर की महिलाएं उपस्थित रहीं। इस अवसर पर मुख्य वक्ता मेघा पवार (प्रांत संयोजिका महिला समन्वय) सदस्य बाल अधिकार संरक्षक आयोग ने कहा कि भारतीय नारियों में सावित्री, गार्गी, अदिति, झांसी की रानी, रानी दुर्गावती आदि ने न केवल स्त्री शिक्षा, समानता और महिला अधिकारों का पाठ विश्व की अन्य महिलाओं के समक्ष रखा, अपितु आधुनिक महिलाओं के लिए उदाहारण प्रस्तुत किया है। कार्यक्रम के द्वितीय सत्र मे श्रीमती प्रतिमा पटेल एसपी उमरिया द्वारा महिलाओं की वर्तमान स्थिति की बात करते हुए सामाजिक जीवन में आ रही परेशानी एवम कठनाइयों विषय पर बढ़ चढ़ कर मातृ शक्तियों से चर्चा में हिस्सा लिया भारतीय स्त्री दर्शन, मातृशक्ति की स्थानीय समस्या, स्थिति एवं समाधान , देश के विकास में मातृशक्ति की भूमिका विषयों पर उद्बोधन दिया ।इस अवसर पर मनोरंजन हेतु सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन हुआ,सेल्फी प्वाइंट ,स्टाल तथा प्रदर्शनी आकर्षण का केंद्र रहा, अंतिम सत्र में श्रीमती पार्वती राठौर जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने भारत के विकास में महिलाओं की भूमिका विषय पर प्रकाश डालते हुए कहा कि नारी समाज और परिवार में ऊर्जा के साथ काम करती है और अब राष्ट्र के लिए काम करना होगा, हम नैतिक मूल्यों को अपने बच्चो को सिखाना होगा।प्रथम सत्र की मुख्य वक्ता डॉ अंजली प्रजापति प्राचार्य भाद ने भारतीय दर्शन में नारी का स्थान इतना सबसे बड़ा है उन्हे अधिक सम्मान इसलिए दिया गया है कि वह त्याग की मूर्ति है, वह स्नेह की खान है. वह समर्पण की पराकष्ठा कर सकती है। कार्यक्रम में समाज के विभिन्न क्षेत्रों (समाज सेवा, शिक्षा, चिकित्सा, धार्मिक संस्था,विधि, प्रशासनिक सेवा,कला, साहित्य, क्रीड़ा, स्वयंसेवी संस्था, स्वसहायता समूह, राजनीति, जाति-बिरादरी प्रमुख, पत्रकारिता, जनप्रतिनिधि, व्यवसायी, विभिन्न क्लब,भजन मंडली) में कार्यरत सम्माननीय मातृ शक्तियों को “नारी शक्ति संगम” में सम्मिलित होने पहुंची लगभग 5000 विभिन्न विधाओं से जुड़ी मातृ शक्तियों ने भाग लिया कार्यक्रम में दोपहर का भोजन आमंत्रित मातृ शक्तियों को प्राप्त हुआ । कार्यक्रम का सफल संचालन डॉ संगीता प्रजापति द्वारा किया गया। नारी शक्ति संगम कार्यक्रम में आए सभी कार्यकर्ताओं का आभार श्रीमती पुष्पा चतुर्वेदी शिक्षिका राजनगर द्वारा किया गया कार्यक्रम का आयोजन अनूपपुर सेवा भारती महाकौशल के मार्गदर्शन में किया गया ।

Bhupendra Patel
Author: Bhupendra Patel

Facebook
Twitter
LinkedIn

Related Posts

error: Content is protected !!