जिला अस्पताल के सामने संचालित फर्जी एक्स-रे,ईसीजी सेंटर का कौन मास्टरमाइंड..?

Share this post

जिला अस्पताल के सामने संचालित फर्जी एक्स-रे,ईसीजी सेंटर का कौन मास्टरमाइंड..?

फर्जी केंद्र और अयोग्य व्यक्ति के द्वारा दी जा रही चिकित्सीय सेवाएं,स्वास्थ्य अमला लाचार

अनूपपुर/जिले भर में इन दिनों जगह जगह कुकुरमुत्ता की तरह अवैध तरीके से फर्जी चिकित्सकीय कार्य संचालित हो रहे हैं चाहे वह क्लिनिक हो एक्स-रे सेंटर हो अथवा पैथोलॉजी लैब इनके ना तो किसी प्रकार का रजिस्ट्रेशन का पता ना डिग्री डिप्लोमा का पता फिर भी लोग बाग खुलेआम अपने अवैध फर्जी तरीके से संचालित दुकान में बैठकर संबंधित कार्य को अंजाम देने में नहीं चूक रहे हैं और स्वास्थ्य अमला मूक दर्शक बनकर बिना जांच किए इन्हें संरक्षित कर रखा है।

जिला अस्पताल के सामने संचालित हो रहा अवैध एक्सरे ईसीजी सेन्टर

जिला अस्पताल अनूपपुर के सामने कई वर्षों से देखा जा रहा है कि मां शारदा डिजिटल एक्स-रे एवं ईसीजी सेन्टर के नाम से लगातार संचालित हो रहा है जिसमें प्रोपराइटर का नाम राजीव द्विवेदी लिखा हुआ है बताया जा रहा है यह व्यक्ति बुढार का है जो इसी नाम से अपना उक्त दुकान निवास शहर में भी संचालित करके रखा गया है। सूचना के अधिकार के तहत मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला अनूपपुर के यहां से प्राप्त जानकारी के अनुसार अनूपपुर जिला मुख्यालय में कोई भी एक्स-रे सेंटर वैद्य नहीं बताया गया है फिर भी खुले आम धड़ल्ले से इस तरह के फर्जी डिजिटल एक्स-रे और ईसीजी सेन्टर के नाम से मेडिकल के अवैध व्यापार को अंजाम दिया जा रहा है और स्वास्थ्य अमला इससे अनजान बनकर बैठा है या यू कहा जाए इन्हें यह स्वयं संरक्षण देकर कार्य कराया जा रहा है। एक जानकारी और प्राप्त हुई है कि जो मां शारदा डिजिटल एक्स-रे ईसीजी सेंटर का प्रोपराइटर है उसके नाम पर एक क्लीनिक के नाम से सीएमएचओ ऑफिस में रजिस्ट्रेशन है परंतु उक्त प्रोपराइटर के नाम से ऐसा कोई डिजिटल एक्सरे सेंटर का जिक्र नहीं पाया गया है अथवा यह माना जा सकता है कि उक्त केंद्र पूर्ण तरीके से अनलीगल है और सबसे प्रमुख बात तो यह है कि एक ही रजिस्ट्रेशन पर दो स्थानों पर व्यापार नहीं किया जा सकता जबकि इनका बुढ़ार में उक्त नाम पर पूर्व से केंद्र संचालित होना बताया जा रहा है और इसी आड़ में इनके द्वारा अनूपपुर में भी संचालन करके रखा गया है और स्वास्थ्य विभाग के आंखों में धूल झोंक कर राजीव द्विवेदी के नाम पर क्लिनिक रजिस्ट्रेशन करके एक्सरे और ईसीजी सेंटर का अवैध संचालन किया जा रहा है। प्रमुख बात यह है कि उक्त फर्जी केंद्र संचालन में आखिर कौन है मास्टरमाइंड राजीव द्विवेदी को आखिर किसने दिया संरक्षण जो खुलेआम कई वर्षों से अवैध तरीके से लोगों को लूटने का काम कर रहा है।

प्रोपराइटर का भाई करता है संचालन

मां शारदा डिजिटल एक्स-रे ईसीजी सेंटर पर पहुंचने पर एक बड़ा खुलासा यह हुआ कि डिग्री डिप्लोमा के अभाव में केंद्र के प्रोपराइटर राजीव द्विवेदी नाम के व्यक्ति का भाई उक्त केंद्र का संचालन करता है और जवाब तलब किए जाने पर अपने भाई का पता नहीं कौन सा फोटो कॉपी वाला डिप्लोमा डिग्री दिखाया जाता है सोचने वाली बात है कि फर्जी सेंटर ऊपर से अयोग्य व्यक्ति का संचालन किया जाना किस तरह से आखिर लोगों को उपयुक्त तरीके से डिजिटल एक्सरे और ईसीजी का रिपोर्ट प्राप्त होता होगा यह माना जाए कि उनके द्वारा जनमानस को ठगने का कार्य किया जा रहा है और प्रशासन को चूना लगाने का काम किया जा रहा है इन अवैध सेन्टर के पास ना तो राज्य सरकार से रजिस्ट्रेशन है और ना ही जिला स्तर पर सीएमएचओ ऑफिस में किसी प्रकार का दस्तावेज जमा है और ना ही रजिस्ट्रेशन हेतु अनुमति ली गई है।जिस पर शासन प्रशासन को ध्यान देकर इस तरह के जिले भर में संचालित अवैध और फर्जी सेंटरों में कार्यवाही करते हुए एफआईआर दर्ज कर दंडात्मक कार्यवाही करते हुए दुकानों को सील करने की आवश्यकता है।

इनका कहना है:-

हमारे द्वारा उनको नोटिस जारी की जा रही है अगर उनके पास केंद्र संचालन के संबंध में डिग्री डिप्लोमा है तो वह रजिस्ट्रेशन हेतु तत्काल अप्लाई करें अन्यथा 15 दिवस बाद सील कर दी जायेगी।

डा.ए.के.अवधिया

सीएमएचओ जिला अनूपपुर

Bhupendra Patel
Author: Bhupendra Patel

Facebook
Twitter
LinkedIn

Related Posts

error: Content is protected !!