अनूपपुर सीमा में फिर हाथियों का दस्तक,निगरानी में वन विभाग अलर्ट

Share this post

अनूपपुर सीमा में फिर हाथियों का दस्तक,निगरानी में वन विभाग अलर्ट

अनूपपुर/विगत एक माह से दो हाथियों का समूह छत्तीसगढ़ राज्य के वन परिक्षेत्र मरवाही अंतर्गत घुसरिया बीट में निरंतर विचरण कर रहा था जिससे परेशान ग्रामीणों द्वारा शुक्रवार एवं शनिवार की रात परेशान होकर दोनों हाथियों को अपने स्थान से भगाने का प्रयास किए जाने पर दोनों हाथी मरवाही वन परिक्षेत्र के शिवनी बीट अंतर्गत डडिया-घिनौची के जंगल कक्ष क्रमांक पी,एफ,2049 में शनिवार के पहुंचकर दिन मे विश्राम कर रहे हैं यह स्थान मध्यप्रदेश के अनूपपुर जिले के जैतहरी तहसील एवं वन परिक्षेत्र के चोलना गांव एवं बीट से दो से चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।शनिवार की देर शाम दोनों हाथियों का समूह अनूपपुर जिले के जैतहरी वन परिक्षेत्र एवं तहसील के चोलना गांव या कोतमा तहसील एवं वन परिक्षेत्र के पोडी-चोडी या पड़ौंर गांव एवं बीट में प्रवेश करने की संभावना बन रही है जिसे देखते हुए जैतहरी एवं कोतमा के वन विभाग के अधिकारी/कर्मचारी पूरी तरह सतर्क हो कर हाथियों के विचरण पर निरंतर निगरानी रखे हुए हाथियों के पूर्व विचरण रास्ते के गांव,टोला,मोहल्ला के ग्रामीणों को रात्रि समय सतर्क रहने हेतु मुनादी एवं अन्य माध्यमो से सूचना दी जा रही है।

ज्ञातव्य है कि यह दोनों हाथी जिसमें एक एक दांत एवं एक दो दांत वाले हाथी विगत वर्षों पूर्व आए पांच हाथियों के समूह के ही सदस्य हैं जो एक वर्ष पूर्व चार जुलाई की सुबह छ,ग,राज्य के मरवाही वन परिक्षेत्र के घुसरिया, शिवनी बीट से विचरण करते मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले के जैतहरी तहसील एवं वन परिषद के जो ना बीट के चलना तथा बच्चा टोला में आकर विश्राम किया रहे इसके बाद निरंतर कई माह तक अनूपपुर जिले के आने को वन पर क्षेत्र में विचरण करते हुए अलग-अलग की संख्या में बट कर आवा कवन करते रहे हैं के इन दोनों सदस्य प्रत्येक स्थलों से भली भांति परिचित है।

Bhupendra Patel
Author: Bhupendra Patel

Facebook
Twitter
LinkedIn

Related Posts

error: Content is protected !!